October 18, 2021
presstv.in
Other विशेष स्वस्थ्य

दिन की झपकी इतनी असरदार:दिन में 10 से 20 मिनट की झपकी काम करने की क्षमता बढ़ाती है और बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं; BP भी कंट्रोल रहता है

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट कहती है, वर्क फ्रॉम होम के दौरान लोगों के वर्किंग आवर में औसतन 3 घंटे की बढ़ोतरी हुई है। इससे थकावट और तनाव बढ़ा है। इससे निपटने में दिन में ली गई 10 से 20 मिनट की झपकी कारगर हो सकती है। इससे आपका रिएक्शन टाइम और अलर्टनेस बढ़ती है। यह झपकी आपकी परफॉर्मेंस को बढ़ाती है। हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के अनुसार, दिन में 30 मिनट से अधिक झपकी नहीं लेनी चाहिए, क्योंकि इससे ताजगी की जगह थकावट आती है।

पावर नैप कैसे लें?

हेल्थलाइन के एक्सपर्ट के मुताबिक पावर नैप लेने के कई तौर-तरीके हैं, जिसे सभी को फॉलो करना चाहिए। बगैर तौर-तरीके के पावर नैप लेने से इसके फायदे कम हो जाते हैं.

दिन में झपकी के फायदे

  • सामंजस्य बढ़ता है: 10 से 20 मिनट की झपकी साइकोमोटर स्पीड यानी दिमाग और शरीर के बीच तालमेल बिठाने के रिएक्शन टाइम और अलर्टनेस बढ़ाती है।
  • बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं: विले ऑनलाइन लाइब्रेरी में 2015 में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, गर्मियों में झपकी से बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं। याददाश्त बेहतर होती है। लॉन्ग टर्म मेमोरी को फायदा होता है।
  • ब्लड प्रेशर घटता है: अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित शोध के मुताबिक, दोपहर की झपकी ब्लड प्रेशर कुछ हद तक सामान्य करने का काम करती है।
  • इम्यूनिटी बढ़ती है: वेब एमडी के मुताबिक, झपकी से महिलाओं में इम्यूनिटी बढ़ती है। खासकर 40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को ज्यादा फायदा होता है। क्योंकि उनमें मेनोपॉज की शुरुआत होने लगती है।

Related posts

पश्चिम बंगाल: शुभेंदु अधिकारी और उनके भाई पर राहत सामग्री की चोरी के आरोप में केस दर्ज

presstv

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री और केंद्रीय खेल मंत्री रिजीजू के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत दर्ज

presstv

MP में 12,379 नए केस, 103 मौतें:पहली लहर की तुलना में इस बार 2 गुना मौतें; पॉजिटिव केस 4 गुना ज्यादा, 3 गुना से अधिक स्वस्थ भी हुए

presstv

पूर्व सांसद डॉ. खेलन राम जांगड़े का हार्ट अटैक से निधन; 30 साल पहले लोकसभा सदस्य रहे, फिर बिलासपुर से नहीं जीत सकी कांग्रेस

presstv

मध्य प्रदेश: कोविड संक्रमित कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया का निधन

presstv

उस गांव से रिपोर्ट जहां अप्रैल में रोजाना 1 मौत:बेलखेड़ा की आबादी 7500, एक महीने में 28 चिताएं जलीं, 56 लोग अब भी बीमार; रिकॉर्ड में कोरोना से 3 मौत ही बताई

presstv

Leave a Comment