November 27, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
Women-Crime-Rape-Protest-PTI12_3_2019_000173E
Other जीवन शैली देश दुनिया पश्चिम बंगाल राज्य विशेष

असम: नाबालिग घरेलू कामगार से बलात्कार, गर्भवती होने के बाद ज़िंदा जलाया

घटना नागांव ज़िले के राहा थानाक्षेत्र की है, जहां एक पिता-पुत्र पर उनकी 12 साल की घरेलू सहायिका के बलात्कार और हत्या का आरोप है. आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया गया है. असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने बताया कि लड़की का लगातार शोषण किया जाता था और वह गर्भवती थी.

गुवाहाटी: असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नागांव जिला प्रशासन से शनिवार को कहा कि वह 12 वर्षीय लड़की के कथित बलात्कार एवं हत्या के मामले की त्वरित जांच कराए.

न्यू इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, इस मामले में पुलिस ने प्रकाश बोरठाकुर (70) और उनके 25 वर्षीया बेटे नयनमोनी को नागांव जिले के राहा  थानाक्षेत्र के खायघर गांव से गिरफ्तार किया है.

पीड़िता पडोसी कार्बी आंगलांग जिले से थीं. पुलिस ने बताया कि लड़की एक घरेलू सहायिका के तौर पर काम करती थी और उससे कथित बलात्कार किया गया.

उसके गर्भवती होने का पता चलने के बाद पिछले हफ्ते उसे कथित रूप से जलाकर उसकी हत्या कर दी गई. लड़की के अभिभावकों के पहुंचने से पहले ही गुरुवार को उसका पोस्टमार्टम कर दिया गया.

ख़बरों के अनुसार, बोरठाकुर के पड़ोसियों ने असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग को बताया कि उसे लगातार प्रताड़ित किया जाता था और वह गर्भवती हो गई थी.

आयोग ने नागांव उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक को लिखे पत्र में कहा कि इस मामले की त्वरित गति से जांच की जाए ताकि बाल यौन अपराध संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम, 2012, बाल एवं किशोर श्रम (निषेध और विनियमन) अधिनियम, 1986, किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 और भारतीय दंड संहिता की प्रासंगिक धाराओं को शामिल करते हुए आरोपपत्र दायर किया जा सके.

राज्य के पुलिस निदेशक भास्कर ज्योति महंता ने शुक्रवार को एक ट्वीट में कहा था, ‘लड़की के नियोक्ता ने बताया कि उसने आत्महत्या की है. हालांकि शुरुआती जांच में संदेह हुआ कि उसकी हत्या की गई फिर जलाया गया. इसके अलावा वो घरेलू सहायक के तौर पर काम करने की उम्र की भी नहीं थी. इसलिए दोनों आरोपियों को तत्काल हिरासत में ले लिया गया है. जांच जारी है.’

द हिंदू के अनुसार, लड़की का जला हुआ शव मिलने के बाद शुक्रवार को कई संगठनों ने आरोपियों के घर के बाहर इस नृशंस घटना के खिलाफ प्रदर्शन किया था.

असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि उन्होंने इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया है. आयोग ने कहा कि पुलिस ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि फास्ट-ट्रैक तरीके से चार्जशीट दाखिल की जाएगी और इंसाफ दिलाया जायेगा.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Related posts

कोरोना दुनिया में:बीते दिन 5 लाख से ज्यादा केस आए; ब्राजील के बाद अमेरिका, भारत और फ्रांस में सबसे ज्यादा संक्रमित मिले

presstv

दिल्ली: श्मशान घाट से सटे शहीद भगत सिंह कैंप के लोग धुएं और गंध में रहने को मजबूर

presstv

ईरान हिजाब प्रदर्शन: बेटी की अंतिम यात्रा में डांस करते शख्स का बताकर तुर्की ड्रामा का एक दृश्य वायरल

Admin

पीएम केयर फंड के माध्यम से सरकारी अस्पतालों में लगेंगे 551 ऑक्सीजन प्‍लांट

presstv

छठ पूजा के जरिए पूर्वांचल के वोटर्स पर नजर! आप, भाजपा और कांग्रेस ने अपने नेताओं को मैदान में उतारा

presstv

एक ब्लड टेस्ट करेगा 50+ कैंसर की पहचान:नई टेक्नोलॉजी बीमारी से पहले ही ट्यूमर का पता लगाएगी

presstv

Leave a Comment