September 26, 2021
presstv.in
Covid-19 Other छत्तीसगढ़ संपादकीय स्वस्थ्य

रेमडेसिविर इंजेक्शन को आवश्यक वस्तु अधिनियम में शामिल करने की मांग, CM बघेल ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र

रायपुर

कोरोना के खिलाफ लड़ाई के बीच रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी से जुड़े लोगों की जमानत मिल जाने से छत्तीसगढ़ सरकार दबाव में आ गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर जरूरी दवाओं को आवश्यक वस्तु अधिनियम (ECA) के तहत अधिसूचित करने की मांग की है, ताकि जमाखाेरी और कालाबाजारी कर रहे लोगों को सख्त सजा दिलाई जा सके।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लिखा, केंद्र सरकार पहले भी एन-95 मास्क, सैनिटाइजर आदि को आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत अधिसूचित कर चुकी है। इस कदम से देश भर में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आसानी हुई। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से मरीजों के उपचार में रेमडेसिविर इंजेक्शन, आइवर मेक्टिन टेबलेट, टोसीलीजुमब इंजेक्शन, फेविपिरावीर कैप्सूल, एनोक्सापारिन इंजेक्शन और डेक्सामेथासोन टैबलेट एवम इंजेक्शन जैसी दवाओं की मांग बढ़ गई है।

इसकी वजह से इन दवाओं की जमाखोरी और कालाबाजारी की शिकायत भी मिल रही है। जमाखोरी की वजह से मरीजों को दवा मिलने में भी दिक्कत हो रही है। मुख्यमंत्री ने लिखा, इन दवाओं के अधिसूचित हो जाने से प्रशासन को कालाबाजारी और जमाखोरी रोकने में सहायता मिलेगी। मुख्यमंत्री ने इसे तत्काल अधिसूचित करने की मांग की है।

रायपुर पुलिस ने पिछले दिनों इन युवकों को रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने की कोशिश करते पकड़ा था। रायपुर, दुर्ग और महासमुंद में ऐसी गिरफ्तारियां हुई हैं। अधिकतर में आरोपियों को छोड़ा जा चुका है।
रायपुर पुलिस ने पिछले दिनों इन युवकों को रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने की कोशिश करते पकड़ा था। रायपुर, दुर्ग और महासमुंद में ऐसी गिरफ्तारियां हुई हैं। अधिकतर में आरोपियों को छोड़ा जा चुका है।

यहां छूट जा रहे हैं कालाबाजारी

छत्तीसगढ़ में रेमडेसिविर और दूसरी दवाओं की कालाबाजारी को रोकने का कोई कानून नहीं है। पुलिस, दंड संहिता की धारा 151 के तहत कालाबाजारियों को पकड़ रही है। यह धारा पुलिस को अपराध होने की संभावना रोकने के लिए किसी व्यक्ति की गिरफ्तारी का अधिकार देती है। लेकिन इसका प्रभाव सीमित है। SDM कोर्ट से उन्हें जमानत मिल जाती है।

आवश्यक वस्तु अधिनियम में 7 साल की सजा

संसद के बनाए आवश्यक वस्तु अधिनियम में खाद्य, औषधि और जरूरी चीजों की जमाखोरी, कालाबाजारी और मिलावटखोरी को रोकने का प्रावधान है। अगर आवश्यक दवाओं को इस कानून के तहत अधिसूचित किया जाता है तो पुलिस को कार्रवाई में आसानी होगी। अपराधियों को आसानी से जमानत नहीं मिलेगी और अपराध सिद्ध होने पर सात साल की जेल भी हो सकती है।

Related posts

लॉकडाउन में ढील पर राज्यों को सलाह:केंद्र ने कहा- कोरोना प्रोटोकॉल पर कोताही न बरतें; टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट और वैक्सीनेशन पर फोकस रखा जाए

presstv

कोविड-19: पहली बार संक्रमण के नए मामलों की संख्या 3.5 लाख के पार, सर्वाधिक 2,812 लोगों की मौत

presstv

टीके पर राजनीतिक आभार:छत्तीसगढ़ में घरों के बाहर प्लेकार्ड लेकर खड़े हुए युवा कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता, दो दिन पहले तय हुआ था कार्यक्रम

presstv

महाराष्ट्र में फंगल इंफेक्शन का कहर:ब्लैक फंगस से 8 कोरोना मरीजों की मौत, 200 से ज्यादा का चल रहा इलाज; कमजोर इम्युनिटी वाले मरीजों को ज्यादा खतरा

presstv

कोराना वालेंटियर और पुलिस ने चेकिंग के लिए रोका ट्रॉला, वाहन में भूसे के नीचे निकले 67 गाय-बछड़े

presstv

MP में 12,379 नए केस, 103 मौतें:पहली लहर की तुलना में इस बार 2 गुना मौतें; पॉजिटिव केस 4 गुना ज्यादा, 3 गुना से अधिक स्वस्थ भी हुए

presstv

Leave a Comment