December 6, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
5-1_1620988234
Covid-19 Other राज्य

मौत भी छिपा गई गुजरात सरकार:33 जिलों और 8 निगमों ने 71 दिन में 1.23 लाख डेथ सर्टिफिकेट जारी किए; सरकार कह रही कोरोना से सिर्फ 4,218 मौतें हुईं

अहमदाबाद

गुजरात में कोरोना के नए मामले और मौतों के आंकड़े तेजी से बढ़ रहे हैं। अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, भावनगर, जामनगर जैसे जिलों में हालात ऐसे हैं कि शवगृहों में लाइन लग रही है। इसके बावजूद सरकार कोरोना से मरने वालों के सही आंकड़े छिपाने की कोशिश कर रही है।

दैनिक भास्कर ने 1 मार्च 2021 से 10 मई 2021 तक के डेथ सर्टिफिकेट के डेटा खंगाले तो चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। इसमें पता चला कि राज्य के 33 जिलों और 8 निगमों द्वारा सिर्फ 71 दिनों में ही 1 लाख 23 हजार 871 डेथ सर्टिफिकेट जारी किए जा चुके हैं। जबकि सरकारी आंकड़ों में कोरोना से मरने वालों की संख्या सिर्फ 4,218 ही बताई गई है। ऐसे में सवाल ये है कि सिर्फ 71 दिनों में करीब सवा लाख लोगों की मौत कैसे हो गई?

बड़े पैमाने पर कोरोना मरीजों की मौत होने से श्मशानों में जगह तक नहीं बची है। कुछ दिनों पहले की यह फोटो अहमदाबाद के एक श्मशान की है।
बड़े पैमाने पर कोरोना मरीजों की मौत होने से श्मशानों में जगह तक नहीं बची है। कुछ दिनों पहले की यह फोटो अहमदाबाद के एक श्मशान की है।

पिछले साल की तुलना में इस साल दोगुनी मौतें
डेथ सर्टिफिकेट्स के मुताबिक इस साल मार्च में ही राज्य में 26,026, अप्रैल में 57,796 और मई के शुरुआती 10 दिनों में 40,051 मौतें हुई हैं। अब इन आंकड़ों की तुलना 2020 से करें तो मार्च 2020 में 23,352, अप्रैल 2020 में 21,591 और मई 2020 में 13,125 मौतें दर्ज की गई थीं। यानी कि पिछले साल की तुलना में इस साल के 71 दिनों में ही मरने वालों का आंकड़ा दोगुना हो चुका है।

5 महानगर, जहां 71 दिनों में 45,211 डेथ सर्टिफिकेट जारी किए गए

शहर सरकारी आंकड़े में कोरोना से मौतें डेथ सर्टिफिकेट जारी
अहमदाबाद 2,126 13,593
सूरत 1,074 8,851
राजकोट 288 10,887
वडोदरा 189 7,722
भावनगर 134 4,158

बड़े 5 जिले, जहां 71 दिनों में 21,908 डेथ सर्टिफिकेट जारी किए गए

जिला सरकारी आंकड़े में कोरोना से मौतें डेथ सर्टिफिकेट जारी
मेहसाणा 132 3,150
राजकोट 418 7,092
जामनगर 341 2,783
अमरेली 36 5,449
नवसारी 9 3,434

छोटे 5 जिले, जहां 71 दिनों में 1,947 डेथ सर्टिफिकेट जारी किए गए

जिला सरकारी आंकड़े में कोरोना से मौतें डेथ सर्टिफिकेट जारी
छोटा उदेपुर 28 78
नर्मदा 9 368
महीसागर 41 419
डांग 13 556
पाटण 51 526

कोरोना से मरने वालों में 80% हाइपरटेंशन के मरीज
डॉक्टर्स और मरीजों के परिजन से मिली जानकारी के मुताबिक मार्च, अप्रैल और मई 2021 के 71 दिनों में जो मौतें हुईं हैं उनमें से 80% मरीज कोरोना के अलावा दूसरी बीमारियों से भी पीड़ित थे। राज्य में सबसे ज्यादा 38% मौतें हाइपरटेंशन के मरीजों की हुई हैं। वहीं, 28% कोरोना मरीजों को डायबिटीज, किडनी और लिवर से जुड़ी बीमारियां थीं। कोरोना संक्रमण के बाद जान गंवाने वालों में 14% वे लोग थे, जिन्हें दूसरी छोटी बीमारियां थीं।

फोटो सूरत के सिविल अस्पताल की है। जहां डेथ सर्टिफिकेट लेने वालों की लाइन लगी है।
फोटो सूरत के सिविल अस्पताल की है। जहां डेथ सर्टिफिकेट लेने वालों की लाइन लगी है।

ब्लड क्लॉटिंग के चलते हार्ट अटैक से 4% मौतें
राज्य के अलग-अलग अस्पतालों से मिली जानकारी के मुताबिक कोरोना मृतकों में 4% वे मरीज भी थे जो कोरोना से तो रिकवर हो चुके थे, लेकिन ब्लड क्लॉटिंग के चलते हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई। ऐसे मृतकों की संख्या 3,500 से 4,000 के बीच होने का अनुमान है। डॉक्टर्स के मुताबिक, लंबे समय तक इलाज कराने के चलते कई मरीजों को ब्लड क्लॉटिंग की समस्या हुई थी।

60% मौतें 45+ उम्र वाले कोरोना मरीजों की
सरकारी विभाग ने जो डेथ सर्टिफिकेट जारी किए गए हैं, उनकी जांच करने पर एक चौंकाने वाली जानकारी यह भी मिली कि कोरोना मृतकों में 60% मरीज 45 साल से अधिक उम्र के थे। वहीं 20% मृतकों की उम्र 25 साल से कम भी थी।

मृतकों के सही आंकड़े छिपाने के आरोपों पर हाल ही में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा था कि सरकार मौतों के आंकड़े छिपा नहीं रही है। मौतों में प्राथमिक और द्वितीयक दोनों वजहें हैं। जिनकी मौतें को-मॉर्बिडिटी की वजह से हुईं, उन्हें कोरोना से मरने वालों में शामिल नहीं किया जा रहा है। यानी कि अगर किसी व्यक्ति को कोरोना हुआ है और वह डायबिटीज, हार्ट या किडनी से जुड़ी गंभीर बीमारियों से पीड़ित है तो उसकी मौत कोरोना से नहीं मानी जाती।

Related posts

कोरोना टीकाकरण के तीसरे चरण से पहले दिल्‍ली सरकार का ऐलान, हमारे पास नहीं है वैक्‍सीन

presstv

घर में जगह-जगह घूम रही छिपकली से हैं परेशान तो आज ही आजमा लें ये नुस्खे, दिखना बंद हो जाएंगी

Admin

कांग्रेस ने झारखंड के 3 विधायकों को सस्पेंड किया:48 लाख कैश के साथ पकड़े गए थे, करीबी बोले- 40-50 लाख से सरकार नहीं गिरती

Admin

How can you eat bats and dogs’: Shoaib Akhtar ‘really angry’ over coronavirus outbreak

Admin

बयान चुनावी है:बंगाल, तमिलनाडु और केरल में क्षेत्रीय दलों की बढ़त से जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ में उत्साह, अमित जोगी ने कहा- क्षेत्रीय दल ही दे सकते हैं भाजपा को टक्कर

presstv

पति को गाली देना क्रूरता:CG हाईकोर्ट ने कहा-प्रताड़ना से तंग पति को तलाक का अधिकार; पत्नी की अपील खारिज

Admin

Leave a Comment