July 4, 2022
THE PRESS TV
12_1652620650
देश दुनिया राजनीति राज्य विशेष वीडियो समाचार संपादकीय

राज्यों में दलों के साथ गठबंधन पर चिंतन शिविर में भी चिंतन नहीं कर पाई कांग्रेस, राहुल गांधी ने कुछ कहा तो पार्टी कुछ और

  • चिंतन शिविर में राहुल गांधी बोले कोई भी क्षेत्रीय दल भाजपा का मुकाबला नहीं कर सकता।

मनोज सीजी/नई दिल्ली

Rahul Gandhi | Udaipur | Congress News

चिंतन शिविर में भाषण देते कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो : BBC Live.in)

राज्यों में दलों के साथ गठबंधन पर चिंतन शिविर में भी चिंतन नहीं कर पाई कांग्रेस, राहुल गांधी ने कुछ कहा तो पार्टी कुछ और
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी उदयपुर में चल रहे कांग्रेस पार्टी के तीन दिवसीय चिंतन शिविर में शनिवार (16-मई-2022) को कहा कि पार्टी देश में अकेले ही भाजपा मुकाबला कर सकती है क्योंकि क्षेत्रीय दलों की न ही कोई विचारधारा और न ही कई केंद्रीय दृष्टिकोण है। वहीं, इसके साथ चिंतन शिविर के तीसरे और आखिरी दिन कहा गया कि कांग्रेस राजनीतिक परिस्थिति को देखते हुए, पार्टी ने गठबंधन के दरवाजे खुले रखे हैं।

आगे उन्होंने भाषण देते हुए कहा कि देश में कांग्रेस और भाजपा/आरएसएस के बीच एक विचारधारा की लड़ाई चल रही है, जिसे कोई भी क्षेत्रीय नहीं लड़ सकती है।

राहुल ने आगे कहा कि “कांग्रेस की जिम्मेदारी है कि देश की संस्थाओं को बचाया जाए और विभिन्न धर्मों और जातियों के बीच और उन राज्यों के बीच बातचीत को फिर से शुरू

 कराया जाए, जिन्हें भाजपा सरकार तोड़ने की कोशिश कर रही है।” इसके साथ राहुल ने कहा कि “यह कोई क्षेत्रीय दल करने वाला है। भाजपा और आरएसएस तो कभी नहीं करेगी। क्षेत्रीय दल हमेशा किसी विशेष जाति से ताल्लुक रखते हैं। वे सभी का प्रतिनिधित्व भी नहीं करते हैं।”

दूसरी तरफ पार्टी की ओर से उदयपुर में चिंतन शिविर के आखिरी दिन घोषणा करते हुए कहा कि पार्टी अपने दम पर और अपने संगठन की ताकत के बल पर लोगों के बीच पैठ बना सकती है और जमीन तैयार कर सकती है। पार्टी राष्ट्रीय हित और लोकतंत्र को बचाने के लिए समान विचारधारा वाले राजनीतिक दलों से बातचीत करने और संपर्क स्थापित करने के लिय प्रतिबद्ध है…. और राजनीतिक परिस्थिति के अनुसार जहां भी जरूरत होगी, वहां गठबंधन के लिए विकल्प खुला रखा है।

इसके साथ पार्टी की ओर से कहा गया कि पार्टी को सभी सामाजिक, सांस्कृतिक, गैर सरकारी संगठनों, ट्रेड यूनियनों, थिंक-टैंक और एनजीओ के साथ जोड़ा जाएगा और संपर्क स्थापित किया जाएगा।

अगर चिंतन शिविर की बात करें, तो गठबंधन के मुद्दे पर पार्टी नेताओं के विचार आपस में मेल नहीं खा रहे थे। कुछ नेताओं का मानना है कि हमें गठबंधन केविकल्प को खुला रखना चाहिए जबकि कुछ का मानना है कि कई राज्यों में गठबंधन के कारण पार्टी को काफी नुकसान हुआ है। इस कारण अब पार्टी को अकेले ही चुनाव लड़ना चाहिए जो राहुल गांधी के भाषण और पार्टी की घोषणा में भी दिखा।

Related posts

शरद पवार पर ‘आपत्तिजनक’ पोस्ट के मामले में अभिनेत्री केतकी चिताले 18 मई तक पुलिस हिरासत में

Admin

UP में कोरोना:प्रदेश में महामारी से ठीक होने वालों का आंकड़ा तेजी बढ़ रहा, मुख्तार की RT-PCR रिपोर्ट पॉजिटिव

presstv

दिल्ली: श्मशान घाट से सटे शहीद भगत सिंह कैंप के लोग धुएं और गंध में रहने को मजबूर

presstv

कोरोना की दूसरी लहर में हिमाचल के प्रवासी मज़दूरों का भविष्य फिर अनिश्चित हो गया है

presstv

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : देश में कोयला संकट नहीं तो, ट्रेनें रद्द क्यों की जा रही हैं

Admin

किसान आंदोलन: भाजपा कार्यकर्ताओं से झड़प के बाद 200 प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ केस दर्ज

presstv

Leave a Comment