December 6, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
12_1652620650
देश दुनिया राजनीति राज्य विशेष वीडियो समाचार संपादकीय

राज्यों में दलों के साथ गठबंधन पर चिंतन शिविर में भी चिंतन नहीं कर पाई कांग्रेस, राहुल गांधी ने कुछ कहा तो पार्टी कुछ और

  • चिंतन शिविर में राहुल गांधी बोले कोई भी क्षेत्रीय दल भाजपा का मुकाबला नहीं कर सकता।

मनोज सीजी/नई दिल्ली

Rahul Gandhi | Udaipur | Congress News

चिंतन शिविर में भाषण देते कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (फोटो : BBC Live.in)

राज्यों में दलों के साथ गठबंधन पर चिंतन शिविर में भी चिंतन नहीं कर पाई कांग्रेस, राहुल गांधी ने कुछ कहा तो पार्टी कुछ और
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी उदयपुर में चल रहे कांग्रेस पार्टी के तीन दिवसीय चिंतन शिविर में शनिवार (16-मई-2022) को कहा कि पार्टी देश में अकेले ही भाजपा मुकाबला कर सकती है क्योंकि क्षेत्रीय दलों की न ही कोई विचारधारा और न ही कई केंद्रीय दृष्टिकोण है। वहीं, इसके साथ चिंतन शिविर के तीसरे और आखिरी दिन कहा गया कि कांग्रेस राजनीतिक परिस्थिति को देखते हुए, पार्टी ने गठबंधन के दरवाजे खुले रखे हैं।

आगे उन्होंने भाषण देते हुए कहा कि देश में कांग्रेस और भाजपा/आरएसएस के बीच एक विचारधारा की लड़ाई चल रही है, जिसे कोई भी क्षेत्रीय नहीं लड़ सकती है।

राहुल ने आगे कहा कि “कांग्रेस की जिम्मेदारी है कि देश की संस्थाओं को बचाया जाए और विभिन्न धर्मों और जातियों के बीच और उन राज्यों के बीच बातचीत को फिर से शुरू

 कराया जाए, जिन्हें भाजपा सरकार तोड़ने की कोशिश कर रही है।” इसके साथ राहुल ने कहा कि “यह कोई क्षेत्रीय दल करने वाला है। भाजपा और आरएसएस तो कभी नहीं करेगी। क्षेत्रीय दल हमेशा किसी विशेष जाति से ताल्लुक रखते हैं। वे सभी का प्रतिनिधित्व भी नहीं करते हैं।”

दूसरी तरफ पार्टी की ओर से उदयपुर में चिंतन शिविर के आखिरी दिन घोषणा करते हुए कहा कि पार्टी अपने दम पर और अपने संगठन की ताकत के बल पर लोगों के बीच पैठ बना सकती है और जमीन तैयार कर सकती है। पार्टी राष्ट्रीय हित और लोकतंत्र को बचाने के लिए समान विचारधारा वाले राजनीतिक दलों से बातचीत करने और संपर्क स्थापित करने के लिय प्रतिबद्ध है…. और राजनीतिक परिस्थिति के अनुसार जहां भी जरूरत होगी, वहां गठबंधन के लिए विकल्प खुला रखा है।

इसके साथ पार्टी की ओर से कहा गया कि पार्टी को सभी सामाजिक, सांस्कृतिक, गैर सरकारी संगठनों, ट्रेड यूनियनों, थिंक-टैंक और एनजीओ के साथ जोड़ा जाएगा और संपर्क स्थापित किया जाएगा।

अगर चिंतन शिविर की बात करें, तो गठबंधन के मुद्दे पर पार्टी नेताओं के विचार आपस में मेल नहीं खा रहे थे। कुछ नेताओं का मानना है कि हमें गठबंधन केविकल्प को खुला रखना चाहिए जबकि कुछ का मानना है कि कई राज्यों में गठबंधन के कारण पार्टी को काफी नुकसान हुआ है। इस कारण अब पार्टी को अकेले ही चुनाव लड़ना चाहिए जो राहुल गांधी के भाषण और पार्टी की घोषणा में भी दिखा।

Related posts

छत्तीसगढ़ में कोरोना:CM बोले- जान है तो जहान है, सुरक्षित रहेंगे तो अगली होली खेल लेंगे; राज्य में एक साथ 3162 नए मरीज मिले, रायपुर से लौटे क्रिकेटर यूसुफ भी संक्रमित

presstv

भानुप्रतापपुर- बीजेपी-कांग्रेस प्रत्याशियों का नामांकन:CM भूपेश के साथ थार में सवार होकर आईं सावित्री,

Admin

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक कर्नाटक के स्कूलों-कॉलेजों में हिजाब पर प्रतिबंध रहेगा: मंत्री

presstv

बच्चा चोरी के शक में साधुओं की जमकर पिटाई

Admin

सागर-भोपाल में सीरियल किलर ने उजाड़े 4 परिवार, घर में अब खाने के लाले

Admin

Shah Rukh Khan plays a scientist in Ranbir Kapoor, Alia Bhatt-starrer Brahmastra: report

Admin

Leave a Comment