July 4, 2022
THE PRESS TV
OFhgU-1
कोरिया जिला छत्तीसगढ़ भ्रष्टाचार राज्य विशेष

घोटाले का ‘Plantation’: कागजों में बढ़ रही है ‘हरियाली’ जमीन से गायब हुए पौधे, मनेन्द्रगढ़ वनमण्डल का मामला, सीएम के आगमन पर घोटालो की विडियो फूटेज और फोटो सौपने की तैयारी

ए0 एस0 अन्सारी
यू0 एफ0 अन्सारी
  • मनेन्द्रगढ वन विभाग ने विगत 3 सालों में 6 फॉरेस्ट रेंज में लाखों पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन आज यहां सिर्फ 15, 20 फीसदी पेड पौधे ही नजर आ रहे हैं जो विभाग के भ्रष्टाचार की कहानी कह रहे हैं.

मनेन्द्रगढ़। वनमण्डल में हरियाली बढ़ाने के लिए पौधरोपण के नाम पर किया गया फॉरेस्ट विभाग का बड़ा फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है. विभाग ने साल 2015-16 से लेकर 2021-2022 तकं हरियाली बढ़ाने के लिए फॉरेस्ट एरिया में करोड़ों रुपए की लागत से समस्त फारेस्ट रेन्ज में प्लांटेशन करवाया था. 100 प्रसेन्ट प्लान्टेशन तो कागजों में हो गया और अब महल 15 से 25 प्रतिशत पौधे ही जमीनों पर बचे हुए है। जो विभाग द्वारा किए गए भ्रष्टाचार की कहानी कह रहे हैं.

अपनी दूर्दशा की कहानी कह रहा यह प्लान्टेशन जिसमें सागौन के पौधो को रोपा गया था जिसकी लागत कराणो के आस पास आई थी। परन्तु इस प्लान्टेशन में ना तो दवाइयों को उपयोग हुआ ना ही इसमें खाद, नीम खली, बोन मिल, यूरिया इत्यादि का ही उपयोग किया गया। यानी ये सभी सामाग्री तो खरीदे गए पर सिर्फ कागजों में। लाखो रूपयों का बन्दरबांट वनमण्डल में हुआ जिसका खामियाजा इस प्रकार से लगाए गए प्लान्टेशन को देखने से ही हो जाता है। इस प्लान्टेशन की यदि भौतिक सत्यापन और मिट्टी परिक्षण किया जाए तो यह स्पस्ट हो जाएगा कि इस प्लान्टेशन में दवाईया और अन्य उर्वरक डाले गए या नहीं? यदि डाले गए होते तो यहां का यह प्लान्टेशन अपनी दूर्दशा पर आंसू बहाने को मजबूर ना होता।

IMG20220515172606
बीसीम के चार न0 में लगाये प्लांटेशन का दृश्य जो विगत 2019 के आसपास लगाया गया था।

घोटाले की इस महा प्लान्टेशन में हरियाली, नजर ही नहीं आता है। करोड़ों रुपए की लागत से मनेन्द्रगढ़ वनमण्डल के मनेन्द्रगढ़ फॉरेस्ट रेंज में प्लांटेशन करवाया गया था. आज यहां हरियाली की जगह मैदान नजर आता है. सिर्फ 10 से 15 फिसदी पौधे ही बचे है वो भी सड़क के किनारे। अन्दर जगंल में यदा कदा कोई पौधा जीवित नजर आता है। और बाकी जगह तो पौधे लगाए जाने की कोई नामोनिशान तक नजर नहीं आता है। वन मंडल मनेन्द्रगढ़ के 6 वन परिक्षेत्रों में लाखों पौधे लगा चूका है, लेकिन विभाग अपने पहले लगाए हुए पौधों की कोई सुध नहीं ले रहा है.

फॉरेस्ट विभाग का यह लक्ष्य भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ चुका है. वन विभाग ने सिर्फ सूखे पौधों का ही पौधरोपण नहीं कराया बल्कि देखरेख के अभाव में करोड़ों के पौधे मवेशी खा गए? जबकि बड़ी संख्या में पौधे पेड़ बनने से पहले ही नष्ट हो चुके हैं. विभाग के अफसरों के पास अब इस बात का भी कोई जवाब नहीं है कि पहले से लगाए गए पौधों को जमीन निगल गई या आसमान।

IMG20220515172611
बीसीम प्लांटेशन में महज 15 से 20 फीसदी पौधे ही जीवित बचे है।

कागजों में खूब बढ़ी हरियाली

भ्रष्टाचार में पूरी तरह डूबा वन विभाग न सिर्फ सूखे पौधों का प्लानटेशन करा चुका है बल्कि उन पौधों की टेंकरों के माध्यम से सिंचाई किए जाने के भी लाखों रुपए के बिलों का भुगतान ले चुका है, हालांकि यह सबकुछ कागजों पर ही हुआ है और वन क्षेत्र की बजाए कागजों पर हरियाली भी खूब बढ़ी है. द प्रेस टीवी आपको मनेन्द्रगढ़ वनमण्डल के सभी 6 फॉरेस्ट रेंज की हकीकत आपको एक के बाद एक दिखाने को तत्पर है. तस्वीरों में नजर आने वाले खाली मैदानों को देखकर यही कहा जा सकता है कि अबतक लगाए गए पेड़ों में से अगर आधे पेड़ों को भी जिंदा रखने की कोशिश की गई होती तो मनेन्द्रगढ़ वनमण्डल के समस्त फॉरेस्ट रेंज की हर खाली जगह हरे-भरे पेड़ों से भर चुकी होती। परन्तु कमीशन खोर अधिकारियों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि जंगल रहे या ना रहे उनकी जेबें हमेशा भरी रहनी चाहिए।

हमने इन समस्त वन परिक्षेत्रों में हुए घोटालो की एक एक विडियो फिल्म तैयार की है जिसे कोरिया जिले के दौरे में आने वाले मूख्यमन्त्री महोदय को सौंपकर जांच एवं कार्यवाही की मांग की जाएगी तथा जो घोटाले हो चूके है उनकी रिकवरी की मांग की जाएगी।

Related posts

कोरोना फिर बेकाबू:प्रदेश में 3162 नए केस, दुर्ग में सबसे ज्यादा 1128 संक्रमित, रायपुर में 9 कंटेनमेंट जाेन

presstv

भारत के ‘धर्मनिरपेक्ष ढांचे’ को बुलडोज कर ‘कई मिनी-पाकिस्तान’ बना रही BJP: महबूबा मुफ्ती

Admin

कोरोना टीकाकरण के तीसरे चरण से पहले दिल्‍ली सरकार का ऐलान, हमारे पास नहीं है वैक्‍सीन

presstv

कोरोना दुनिया में:बीते दिन 5 लाख से ज्यादा केस आए; ब्राजील के बाद अमेरिका, भारत और फ्रांस में सबसे ज्यादा संक्रमित मिले

presstv

मध्यप्रदेश में कोरोना:पहली बार 10% की दर से पॉजिटिव केस आए; होली पर 2323 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई, एक्टिव केस 15 हजार के पार पहुंचे

presstv

उस गांव से रिपोर्ट जहां अप्रैल में रोजाना 1 मौत:बेलखेड़ा की आबादी 7500, एक महीने में 28 चिताएं जलीं, 56 लोग अब भी बीमार; रिकॉर्ड में कोरोना से 3 मौत ही बताई

presstv

Leave a Comment