November 26, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
JusticeInduMalhotra_PTI_290822_1200x800
DILLI/NCR देश दुनिया राजनीति राज्य विशेष

सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जज ने कहा- वामपंथी सरकारें हर जगह हिंदू मंदिरों पर कब्ज़ा कर चुकी हैं

सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जज जस्टिस इंदु मल्होत्रा का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन्हें यह दावा करते हुए देखा जा सकता है कि उन्होंने और जस्टिस यूयू ललित (वर्तमान सीजेआई) ने श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर पर कब्ज़ा करने के केरल सरकार के प्रयासों को रोक दिया था.

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जज जस्टिस इंदु मल्होत्रा का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें उन्हें यह दावा करते हुए देखा जा सकता है कि वामपंथी सरकारों ने हर जगह हिंदू मंदिरों को नियंत्रण में ले लिया है.

बार एंड बेंच के मुताबिक, वीडियो में जस्टिस इंदु मल्होत्रा लोगों के एक समूह को यह बताते हुए देखी जा सकती हैं कि उन्होंने और जस्टिस यूयू ललित (भारत के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश) ने केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम में श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के संबंध में इस तरह के प्रयासों को रोक दिया.

वीडियो मंदिर परिसर के बाहर शूट हुआ प्रतीत होता है.

उन्हें कहते हुए देखा जा सकता है, ‘इन वामपंथी सरकारों के साथ यही होता है. वे राजस्व के कारण मंदिरों पर कब्जा करना चाहती हैं. उनकी समस्या राजस्व है. हर जगह उन्होंने कब्जा कर लिया है. हर जगह. केवल हिंदू मंदिर. इसलिए जस्टिस ललित और मैंने कहा, नहीं हम इसकी अनुमति नहीं देंगे.’

गौरतलब है कि वे जुलाई 2020 के सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का जिक्र कर रही थीं जो उन्होंने और जस्टिस ललित ने दिया था, जिसमें शीर्ष अदालत ने फैसला सुनाया था कि त्रावणकोर शाही परिवार के पास श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के रखरखाव और प्रबंधन का अधिकार है.

2011 में केरल हाईकोर्ट ने अपने फैसले में केरल सरकार को यह अधिकार दिया था, इसे शाही परिवार के महाराजा ने चुनौती देते हुए एक अर्जी दायर की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने अनुमति दे दी थी.

शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि मंदिर और देवता के प्रबंधन का अधिकार शाही परिवार को है, जो कि उस शासक की मृत्यु के साथ समाप्त नहीं होगा जिसने 1949 में भारत सरकार के साथ विलय के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए थे, जिसके चलते तत्कालीन त्रावणकोर रियासत भारतीय संघ में विलय हो गई थी.

अदालत ने मंदिर के प्रबंधन और प्रशासन के लिए पांच सदस्यीय प्रशासकीय समिति का भी गठन किया था.

जस्टिस मल्होत्रा के इस वीडियो के सामने आने के बाद केरल सरकार ने सोमवार को विधानसभा को सूचित किया कि उसने संकट के हालिया वर्षों के दौरान राज्य में विभिन्न मंदिर बोर्डों को 229 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सीपीआई(एम) के चार विधायकों के लिखित सवाल के जवाब में राज्य के मंदिर मामलों के मंत्री के. राधाकृष्णन ने विधानसभा को बताया कि सरकार ने त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड, कोच्चि देवस्वाम बोर्ड, मालाबार देवस्वाम बोर्ड और कूडलमणिक्यम देवस्वाम बोर्ड को कोरोना वायरस महामारी और 2018 की बाढ़ से पैदा हुए संकट से उबरने के लिए 165 करोड़ रुपये की सहायता दी है.

राधाकृष्णन ने कहा कि इस आवंटन में से त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड को 120 करोड़ रुपये की सहायता मिली थी.

इसके अलावा, मंत्री ने कहा कि मई 2021 में वर्तमान एलडीएफ सरकार के आने के बाद त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड को 20 करोड़ रुपये और मालाबार देवस्वाम बोर्ड को 44 करोड़ रुपये का सहायता-अनुदान दिया गया था.

Related posts

सक्ती जिले के दौरे पर भूपेश बघेल:CM ने दी शाबाशी, तो छात्र ने कहा- ‘ये सब आपकी वजह से हुआ है संभव’

presstv

पति को गाली देना क्रूरता:CG हाईकोर्ट ने कहा-प्रताड़ना से तंग पति को तलाक का अधिकार; पत्नी की अपील खारिज

Admin

MDS की ऑफलाइन परीक्षा पर हाईकोर्ट की रोक:आयुष यूनिवर्सिटी ने 3 मई से मास्टर ऑफ डेंटल सर्जरी की परीक्षा का कार्यक्रम घोषित किया था, छात्रों ने लगाई थी कोर्ट में याचिका

presstv

देने गई फूल, पहुंच गई जेल:उज्जैन पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री चौधरी को ज्ञापन देने पहुंची कांग्रेस प्रवक्ता को पुलिस ने धारा 144 उल्लंघन का हवाला देकर किया गिरफ्तार

presstv

अमेरिका में प्लेन क्रैश की धमकी:पायलट ने विमान चुराया, 3 घंटे से आसमान में मंडरा रहा; इलाका खाली कराया

Admin

वनमण्डल मनेन्द्रगढ़ के वनों में हुए घोटाले की शिकायत, जांच नहीं होने पर सीधा हाईकोर्ट में पीआईएल दाखिल करने की तैयारी

Admin

Leave a Comment