November 26, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
1600x960_166851-forestweb
मध्य प्रदेश राज्य विशेष

महिला को खटिया पर रख 4 किमी एम्बुलेंस तक पहुंचे:सिवनी में बरगी बांध से विस्थापित गांव की महिला करंट से झुलसी, गांव तक नहीं है सड़क

जबलपुर

आजादी के 75 साल बाद भी कई जगह मूलभूत सुविधाएं तक नहीं हैं। सरकार का दावा है कि गांव-गांव तक सड़क बन चुकी है। इसी दावे की पोल खोलने वाली तस्वीर मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में सामने आई है। यहां एक महिला करंट से झुलस गई। सड़क नहीं होने के कारण गांव तक एम्बुलेंस नहीं पहुंच सकी। इस कारण चार लोग खटिया पर लटका कर उसे 4 किलोमीटर पैदल एम्बुलेंस तक ले गए। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां से जबलपुर रेफर कर दिया गया।

घटना 2 सितंबर की बताई जा रही है। इसका वीडियो अब भी सामने आया है। वीडियो में कुछ लोग जली हुई महिला को लटका कर पैदल ले जाते दिख रहे हैँ। बताया जा रहा है कि वीडियो सिवनी जिले के घंसौर इलाके से बरगी बांध से विस्थापित गांव बखारी का है। यहां आदिवासी यमुना बाई सैयाम खेत में काम कर रही थी। इसी दौरान उसे करंट लग गया। वह 80% झुलस गई। आवाज सुनकर गांव वाले पहुंचे। गांव वाले और परिवार वाले उसे लेकर नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। यहां से जबलपुर रेफर कर दिया गया।

सड़क नहीं होने पर गांव वाले इस तरह कंधे पर लटका कर ले गए।
सड़क नहीं होने पर गांव वाले इस तरह कंधे पर लटका कर ले गए।

सड़क नहीं होने से गांव तक नहीं पहुंची एम्बुलेंस

एम्बुलेंस को भी कॉल कर दिया गया, लेकिन गांव तक पहुंचने के लिए सड़क संकरी है। रास्ता भी कच्चा है। सड़क किनारे एम्बुलेंस भी खड़ी हो गई। गांव वालों ने महिला को खटिया पर बांधा। इसके बाद चार लोग कंधे पर लटकाकर उसे गांव के बाहर 4 किलोमीटर तक पैदल एम्बुलेंस तक ले गए। इस दौरान वहां मौजूद किसी ने इसका मोबाइल से वीडियो बना लिया। फिर सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। एम्बुलेंस की मदद से उसे जबलपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अफसर बोले- जानकारी मिली है, दौरा करूंगा

घंसौर के अनुमंडल दंडाधिकारी अमित बम्होलिया ने बताया कि इस मामले की जानकारी मिली है। यह क्षेत्र बरगी बांध के जलमग्न के अंतर्गत आता है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के अधिकांश परिवारों का पुनर्वास किया जा चुका है, लेकिन कुछ लोग छोटी बस्तियों में रह रहे हैं। वहां संकरी मिट्टी की पगडंडी है, जो चलने योग्य नहीं है। स्थिति का जायजा लेने और ग्रामीणों के लिए आसान परिवहन सुनिश्चित करने के लिए बखारी गांव का दौरा करूंगा। घंसौर के जनपद पंचायत के सीईओ मनीष बागरी ने कहा कि बखारी से धूममाल तक सड़क नहीं है, क्योंकि यह वन क्षेत्र के अंतर्गत आता है।

Related posts

हरियाणा: बॉन्ड नीति का विरोध कर रहे मेडिकल छात्रों को पुलिस ने जबरन धरने से उठा गिरफ़्तार किया

presstv

पर्यावरण मंत्रालय का अनुमानित बजट तीन साल में सबसे कम, 900 करोड़ अतिरिक्त फंड की ज़रूरत: समिति

presstv

जानिए, 5G से आपकी दुनिया कैसे बदलेगी

Admin

ऑक्सीजन पर केंद्र को 20 घंटे की मोहलत:SC ने केंद्र से कहा- दिल्ली को ऑक्सीजन देने का प्लान कल सुबह 10.30 बजे तक बताएं; HC के अवमानना नोटिस पर स्टे

presstv

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : देश में कोयला संकट नहीं तो, ट्रेनें रद्द क्यों की जा रही हैं

Admin

दिन की झपकी इतनी असरदार:दिन में 10 से 20 मिनट की झपकी काम करने की क्षमता बढ़ाती है और बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं; BP भी कंट्रोल रहता है

presstv

Leave a Comment