November 26, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
cgg_1664957351
Other जीवन शैली तकनीक देश दुनिया भ्रष्टाचार राजनीति राज्य रोजगार वर्ल्ड न्यूज विशेष

चिदंबरम ने दीं जोरदार दलीलें, SC को नोटबंदी के खिलाफ याचिकाओं पर दखल देने के लिए किया विवश

दरअसल, बेंच शुरू में एसजी तुषार मेहता की इस टिप्पणी को स्वीकार कर याचिकाओं को निपटारा करना चाहती थी कि मामला निष्प्रभावी हो गया है और केवल अकादमिक हित रह गया.

चिदंबरम ने दीं जोरदार दलीलें, SC को नोटबंदी के खिलाफ याचिकाओं पर दखल देने के लिए किया विवश

चिदंबरम की दलीलों के बाद नोटबंदी के खिलाफ 58 याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट को दखल देना पड़ा

नई दिल्‍ली : 

वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने अपनी दलीलों से सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की संविधान पीठ को नोटबंदी (Demonetisation)के जिन्न को बोतल से बाहर निकलने पर विवश  कर दिया. चिदंबरम की दलीलों के बाद नोटबंदी के खिलाफ कोल्ड स्टोरेज में पड़ी 58 याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट को दखल देना पड़ा. SC ने  कहा कि आने वाली पीढियों के लिए एक कानून तय किया जा सकता है. संविधान पीठ का कर्तव्य है कि वो मुद्दे में उठे सवालों का जवाब दे.

दरअसल, बेंच शुरू में एसजी तुषार मेहता की इस टिप्पणी को स्वीकार कर याचिकाओं को निपटारा करना चाहती थी कि मामला निष्प्रभावी हो गया है और केवल अकादमिक हित रह गया था लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व वित्त मंत्री और एक याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ वकील पी चिदंबरम ने कहा कि1978 की नोटबंदी एक अलग कानून था. अध्यादेश के बाद एक कानून लाया गया यह अकादमिक नहीं है, यह एक लाइव इश्यू है. हम इसे साबित करेंगे. यह मुद्दा भविष्य में उत्पन्न हो सकता है. इसके बाद पीठ का प्रथम दृष्टया विचार था कि इस मुद्दे को और जांच की जरूरत है. इसके बाद केंद्र और RBI से विस्तृत हलफनामा मांगा गया.

गौरतलब है कि नोटबंदी की संवैधानिक वैधता पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से सवाल पूछा है. कोर्ट ने कहा कि क्या सुप्रीम कोर्ट को भविष्य के लिए कानून तय नहीं करना चाहिए? क्या RBI एक्ट के तहत नोटबंदी की जा सकती है? नोटबंदी के लिए अलग कानून की जरूरत है या नहीं. जिस तरह से नोटबंदी को अंजाम दिया गया इस प्रक्रिया के पहलुओं पर गौर करने की जरूरत है.इससे पहले, पीठ की अगुवाई कर रहे जस्टिस नज़ीर ने पूछा- अब इस मामले में कुछ बचा है?  जस्टिस गवई ने कहा, अगर कुछ नहीं बचा तो आगे क्यों बढ़ना चाहिए?  इस पर  SG ने कहा था कि मुझे लगता है कि कुछ अकादमिक मुद्दों के अलावा कुछ भी नहीं बचा है. क्या अकादमिक मुद्दों पर फैसला करने के लिए पांच जजों को बैठना चाहिए.

Related posts

सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व सीजेआई रमना का आदेश पलटकर रजिस्ट्रार की स्थायी नियुक्ति रद्द की

Admin

राष्ट्रपति चुनाव: सहयोगी दलों और विपक्ष के साथ मिलकर काम करेगी बीजेपी, सर्वसम्मति से चुना जाएगा उम्मीदवार

Admin

कोरोना का टीका इसलिए भी जरूरी:वैक्सीन ले चुके लोगों को कोरोना का खतरनाक वैरिएंट B.1.617 संक्रमित तो कर सकता है लेकिन हालात जानलेवा नहीं बनेंगे

presstv

डेंगू का बढ़ता दायरा:दुनिया की आधी आबादी खतरे में; भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में डेंगू से 200 से ज्यादा मौतें

Admin

SCO समिट में पीएम मोदी ने कहा, ‘भारत को मैन्युफैक्चरिंग हब में बदलना चाहते हैं’

Admin

गुजरात ब्रिज हादसे में पहला एक्शन:ओरेवा कंपनी का मैनेजर, रिपेयरिंग करने वाले कॉन्ट्रैक्टर समेत 9 अरेस्ट

presstv

Leave a Comment