November 26, 2022
THE PRESS TV (द प्रेस टीवी)
_1666164771
जीवन शैली देश दुनिया महाराष्ट्र राजनीति राज्य वर्ल्ड न्यूज विशेष संपादकीय

राहुल फिर बोले, सावरकर ने अंग्रेजों से माफी मांगी थी:चिट्ठी लिखकर कहा था कि नौकर बने रहेंगे, गांधी-नेहरू ने ऐसा नहीं किया,इसके बाद बीजेपी तिलमिलाई

भारत जोड़ो यात्रा पर निकले राहुल गांधी के सावरकर पर दिए एक बयान पर भाजपा के साथ-साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे ने भी ऐतराज जताया है। राहुल गांधी ने बुधवार को अकोला में मीडिया के सामने एक चिट्ठी दिखाई।

उन्होंने कहा कि ये चिट्ठी सावरकर ने अंग्रेजों को लिखी थी। बोले कि सावरकर ने डरकर अंग्रेजों से माफी मांग ली थी। दूसरी ओर गांधी जी, नेहरू और पटेल ने ऐसा नहीं किया। राहुल ने कहा कि इस चिट्ठी को फडणवीस जी भी देख लें। महाराष्ट्र के CM शिंदे ने इस बयान पर राहुल को चेतावनी दी है। जबकि उद्धव बोले- हम सावरकर का सम्मान करते हैं। भाजपा ने कहा कि इस अपमान पर जवाब देंगे।

सावरकर के पोते बोले- राहुल ने अपमान किया

रंजीत सावरकर मुंबई में स्थित स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के अध्यक्ष हैं।
रंजीत सावरकर मुंबई में स्थित स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के अध्यक्ष हैं।

सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने मुंबई के शिवाजी पार्क पुलिस स्टेशन में राहुल गांधी और महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले की शिकायत की है। रंजीत ने कहा कि राहुल ने वीर सावरकर की माफी वाली चिट्ठी दिखाकर उनका अपमान किया है।

भारत जोड़ो यात्रा का 71वां दिन है। यात्रा आज महाराष्ट्र के अकोला महाराष्ट्र जिले में है।
भारत जोड़ो यात्रा का 71वां दिन है। यात्रा आज महाराष्ट्र के अकोला महाराष्ट्र जिले में है।

चिट्ठी पर राहुल का पूरा बयान पढ़िए…
राहुल गांधी ने कहा, ‘ये देखिए मेरे लिए सबसे जरूरी डॉक्यूमेंट। ये सावरकर जी की चिट्ठी है। इसमें उन्होंने अंग्रेजों को लिखा है। मैं आपका सबसे ज्यादा ईमानदार नौकर बने रहना चाहता हूं। ये मैंने नहीं सावरकर जी ने लिखा है। फडणवीस जी देखना चाहते हैं तो देख लें। सावरकर जी ने अंग्रेजों की मदद की। सावरकर जी ने ये चिट्ठी साइन की।

गांधी, नेहरू और पटेल सालों जेल में रहे और कोई चिट्ठी नहीं साइन की। सावरकर जी ने इस कागज पर साइन किया, उसका कारण डर था। अगर डरते नहीं तो कभी साइन नहीं करते। सावरकर जी ने जब साइन किया तो हिंदुस्तान के गांधी, पटेल को धोखा दिया था। उन लोगों से भी कहा कि गांधी और पटेल भी साइन कर दें।’

राहुल ने कहा- भारत में पिछले 8 साल से डर का माहौल, नफरत और हिंसा फैलाई जा रही है।
राहुल ने कहा- भारत में पिछले 8 साल से डर का माहौल, नफरत और हिंसा फैलाई जा रही है।

एकनाथ और उद्धव को भी राहुल के बयान पर ऐतराज
महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा- महाराष्ट्र के लोग हिंदू विचारक व्यक्ति का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे। वीर सावरकर के अपमान को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। महाराष्ट्र में श्रद्धेय स्वतंत्रता सेनानी का अपमान किया गया और कुछ ऐसे भी लोग थे जो इसे सहते रहे। सावरकर का अपमान करने वालों के प्रति एक नरम रुख अपनाया जा रहा है। शिंदे का इशारा उद्धव ठाकरे की ओर था।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा- हमारी पार्टी सावरकर का बहुत सम्मान करती है। हम स्वतंत्रता सेनानी पर राहुल गांधी की टिप्पणी का समर्थन नहीं करते हैं। हमारे मन में वीर सावरकर के लिए बहुत सम्मान और विश्वास है और इसे मिटाया नहीं जा सकता। केंद्र सरकार सावरकर को भारत रत्न क्यों नहीं देती?

राहुल गांधी ने कहा कि सावरकर अंग्रेजों से पेंशन लेते थे, उनके लिए काम करते थे।
राहुल गांधी ने कहा कि सावरकर अंग्रेजों से पेंशन लेते थे, उनके लिए काम करते थे।

अपमान करने वालों को उचित जवाब देंगे: फडवणीस
डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि राहुल बड़ी बेशर्मी से झूठ बोलते हैं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के लोग सावरकर का अपमान करने वालों को उचित जवाब देंगे। राहुल गांधी वीर सावरकर के बारे में कुछ नहीं जानते हैं और रोज झूठ बोलते हैं।

राहुल गांधी भी महाराष्ट्र के वाशिम में बिरसा मुंडा के जन्मोत्सव कार्यक्रम में पहुंचे थे।
राहुल गांधी भी महाराष्ट्र के वाशिम में बिरसा मुंडा के जन्मोत्सव कार्यक्रम में पहुंचे थे।

यहां से विवाद शुरू
राहुल की भारत जोड़ो यात्रा अभी महाराष्ट्र में है। मंगलवार को जब यात्रा वाशिम पहुंची तो राहुल ने बिरसा मुंडा की जयंती पर एक रैली को संबोधित किया। उन्होंने कहा- सावरकर भाजपा और RSS के प्रतीक हैं। उन्हें जब अंडमान में दो-तीन साल तक जेल में रखा गया तो उन्होंने दया याचिकाएं लिखना शुरू कर दिया।

सावरकर ने खुद पर एक अलग नाम से एक किताब लिखी थी और बताया था कि वह कितने बहादुर थे। बिरसा मुंडा कभी एक इंच भी पीछे नहीं हटे। शहीद हो गए। ये आदिवासियों के प्रतीक हैं। बीजेपी-संघ के प्रतीक सावरकर ने दया याचिकाएं लिखनी शुरू कर दीं थीं। इस बयान पर सियासत हो रही है।

Related posts

एक ब्लड टेस्ट करेगा 50+ कैंसर की पहचान:नई टेक्नोलॉजी बीमारी से पहले ही ट्यूमर का पता लगाएगी

presstv

देश में बढ़ रही बिजली की मांग आयतित ईंधन की कमी का नतीजा, भारत में पर्याप्त कोयला उपलब्ध

Admin

एमपी: कांग्रेस के दो विधायकों पर ट्रेन में महिला से छेड़छाड़ के आरोप में मामला दर्ज

Admin

दिल्ली में पूरे परिवार की जिंदा जलकर मौत:तीन झुग्गियों में लगी आग; सिलेंडर ब्लास्ट से 6 लोगों की झुलसकर मौत, मरने वालों में दंपती और उनके चार बच्चे शामिल

presstv

CG में 3 हजार पदों पर भर्तियां:विद्युत वितरण कंपनी ने लाइनमेन के पदों की संख्या दोगुनी की, 20 सितंबर तक कर सकेंगे आवेदन; सिर्फ मूल निवासी ही होंगे पात्र

presstv

US summons Chinese envoy over Beijing’s coronavirus comments

Admin

Leave a Comment